Wednesday, April 29, 2020


मदावा

मदावा के मायने पूछे थे उसने 
और फिर वो उर्दू की हर मौज को पुकार उठा 
यूँ जैसे हर लफ्ज़ को यूँ छू के देखा हो
जैसे कोई नाबीना अपने हाथो से 
किसी पत्थर पे तराशे मुजस्सम के नकूश पे 
रूह फूँकने की जद्दो जहद से लबरेज़ हो कर 
उसका हुस्न दोबाला कर दे...!
मायने नया पैरहन पहन लेते थे लब ओ लहजे को छू कर उसके 
की मैं उस पैरहन मे पिरोए रंगो 
की  तासीर को मसीहाई कह बैठी....,
और फिर वो सिर्फ़ कहने के हुनर से दो चार...
खुद मे इंतिहा हस्सास  "दो कान" भी रखता था ...
मैने लिखा था किसी नज़्म मे अपनी...
"दो कान की आरज़ू है मुझे..."
जब मैं बोलती वो कोरा काग़ज़ बन जाता ...
की मैं तौले जाने के ख़ौफ़ से लापरवाह...
जब अपना आप सामने रखती तो लगता 
आज मुद्दतो बाद गहरी साँस ली हो...
जैसे इसके पहले जीने जितनी साँस मयस्सर थी...
खुद को अयान कर...
खुद मे उतर के देखा है...
बेहद हसीन इत्तेफ़ाक़ था ..
खुद से मुलाक़ात का..
रूबरू होने का...
ऑर फिर बेसखता ये कहने का ...
मदावा के मायने पूछे थे उसने ..!!

Dr Shaista Irshad


4 comments:

अगर वो देख लेता ...

~~अगर वो देख लेता ...~~ वो दम बखुद मोबाइल और  वाइ फ़ाई के सिग्नल्स जिस शिद्दत से देखता है, काश उसने यूँ ठहर कर मेरे खामोश लबों की जानिब...