Tuesday, May 13, 2014



~~अब ना नींद है ..ना सुकून है....चाँद पर भी बेसुकूनी के साए हैं
उस चाँद के काले दाग मेरी हयात की आगोश में सिमट आए हैं...~~


~~बचपन माँ के वजूद से खूबसूरत था~~

इतवार की सुबह माँ के चूमने से ही होती थी..उनकी ढेरों लोरिया जिनमे "उठो लाल अब आँखे खोलो"..सबसे प्यारी लगती थी... इतवार का मतलब माँ का बहोत सारा दुलार ओर टी.वी के सामने रंगोली देखते हुए नाश्ता करना... या तेज़ आवाज़ में गाना सुनना... बहन से दूध की मलाई का झगड़ा करना...या माँ के हाथों... वो सब्ज़ी भी खा लेना जो सख़्त नापसंद होती थी...
ज़िंदगी कितनी बेफ़िक्र थी... हर मौसम खूबसूरत.... बारिश मे भीगना..धूप मे खेलना...जब नींद आए सो जाना....
अब ना नींद ..ना सुकून....चाँद पर भी बेसुकूनी के साए से हैं.... सब को खिलाना..सब को सुलाना.... बस यही मेरी नींद ओर भूक है.... बचपन माँ के वजूद से खूबसूरत था.... अब माँ के लिए भी माँ हो गई हूँ....


Mera naam "Shaista" hai ek paimana ...
Tu isme poora utar ke dekh...
Rooh-o- jism bicha kar rakhe hain ..
Kabhi mujhko chhu kar guzar ke dekh.....

तेरा नाम "शाइस्ता" है एक पैमाना ...
तू इसमें पूरी उतर के देख..
रूह-ओ-जिस्म बिछा कर रखे हैं ..
कभी मुझको छू कर गुज़र के देख...


Tum muhabbat karna
Hum ibaadat karenge...

तुम मुहब्बत करना
हम इबादत करेंगे...

~माँ बन के ही माँ की ममता पहचान पाई हूँ...
अपने क़दमो की जन्नत भी उसपे वार आई हूँ .~.

अपने दर्द को मुहब्बत का पयाम देती हूँ
तेरी यादों को अनगिनत लम्हें गुमनाम देती हूँ
सजा लेती हूँ तन्हाई कसक देते इन लम्हों से
उल्फ़त के इस रिश्ते को नाम-"बेनाम"देती हूँ....

When love melts into silence,
Heart beat dances to the rhythm of touch...


~एक ख़याल~
सुनो..क्या हमारे बीच फ़ासले बढ़ गए हैं? तुमने कितने रोज़ से मेरा चेहरा गौर से नही देखा...
मैं खिलते खिलते कब मुरझा गई! सिर्फ़ तुम्हारी एक भरपूर नज़र को खुद पर महसूस करने के लिए तुम्हारी पसंद के सारे रंग खुद पर जिला डाले..हर रोज़ तुम्हारी निगाहो को देखती हूँ, उनका पीछा करती हूँ..की जब तुम मुझे देखो तो मेरे चेहरे पेर एक इन्तिहाइ खूबसूरत मुस्कान हो..वो मुस्कान जो ज़िंदगी की सख्तियों की थकान उतार दे... मगर रोज़ मायूस होती हूँ.... मैं तुम्हें समेट लेना चाहती हूँ..मगर तुम बिखरते जाते हो.... किस तरह क़रार दूँ तुम्हे की तुम मुझे एक नज़र देख कर फिर मेरे बदन में जान डाल दो...मुझे जीने की वजह दे दो...


उसकी यादों में होठों पर एक आह होती है
तन्हा हूँ मैं,तन्हाइयों मे भी क़राह होती है
मेरी आह-ओ-क़राह को वो सुन नही सकता
जो कहता था की दिल से दिल को राह होती है

uski yaadon mein hontho per ek aah hoti hai
tanha hoon main, tanhaiyon mein bhi qaraah hoti hai
meri aah-o-qaraah ko woh sun nahi sakta
jo kahta tha ki dil se dil ko raah hoti hai


यह आँखे बंद होती हैं पलकों के गिलाफ में..
मिलते हो ख्वाब मे भी तुम क्यों हिजाब मे...

Yeh aankhe band hoti hain palko ke gilaaf mein..
Milte ho khwab me bhi tum kyon hijaab me...

एक बार पलट कर कह दो
तुझे मुझसे वास्ता कोई नही...
मुझ तक तुझको लेकर आए
क्या ऐसा रास्ता कोई नही...
अपने ख्वाबो की क़ब्र पर
आँसुओ के फूल लिए बैठा हूँ
मेरी आखरी हिचकी का वास्ता
ना कहना तेरा मुझसे राबता कोई नही...

Ek baar palat kar kah do
Tumko mujhse waasta koi nahi...
Mujh tak tumko lekar aaey
Aisaa raasta koi nahi...
Apne khwabo ki qabr per
Aansuo k phool liye baitha hu
Meri aakhri hichki k sadqe hi laut aa
Kya tera mujhse raabta koi nahi...

मौसम-ए-इश्क़ की हर करवट पर मौजूद हैं
मेरी मुहब्बत के निशान जो आँसुओं की सूरत ठहर गए

Woh neend Jo hoti thi bedaar maa ke choom leney se...
Ab aankhe jaag jaati hain, magar subah nahi hoti....

वो नींद जो होती थी बेदार माँ के चूम लेने से...
अब आँखे जाग जाती हैं, मगर सुबह नही होती....

pni dhadkano ki tarz per
Meri saanso ki hamnawai likh do....
sath qadam na chale to na sahi
Pal do pal ki rahnumai likh do....

अपनी धड़कनो की तर्ज़ पर
मेरी सांसो की हमनवाई लिख दो....
साथ क़दम ना चले तो ना सही
पल दो पल की रहनुमाई लिख दो....


अगर वो देख लेता ...

~~अगर वो देख लेता ...~~ वो दम बखुद मोबाइल और  वाइ फ़ाई के सिग्नल्स जिस शिद्दत से देखता है, काश उसने यूँ ठहर कर मेरे खामोश लबों की जानिब...